खर्राटे का इलाज और घरेलू उपाय – Methods to Cease Loud night breathing in Hindi

0
471

खर्राटे का इलाज और घरेलू उपाय – Methods to Cease Loud night breathing in Hindi April 17, 2019

खर्राटे तब आती हैं, जब हवा गले में मौजूद उत्तकों में कंपन पैदा करती है। यह एक ऐसी समस्या, जो आपसे ज्यादा दूसरों को परेशान करती है। जो व्यक्ति खर्राटे लेता है, उसे तो इसका अहसास कम ही होता है, लेकिन साथ में सोने वाले की नींद पूरी तरह खराब हो जाती है। फिर अगले दिन जब कोई आपके खर्राटों के बारे में टोकता है, तो यह वाकई में काफी शर्मिंदगी भरा हो जाता है। यही नहीं, कभी-कभी यह समस्या गंभीर रूप भी ले सकती है। कई बार इससे आपका सांस भी रुक सकता है।

विषय सूची

अगर आपको या आपके किसी परिचित को खर्राटे लेने की आदत है, तो स्टाइलक्रेज के इस लेख में हम खर्राटे का घरेलू इलाज बताएंगे। इसके साथ ही खर्राटे क्यों आती हैं, उसके कारणों पर भी नजर डालेंगे। आइए, पहले जानते हैं खर्राटे आने का कारण।

खर्राटे आने का कारण – Causes of Loud night breathing Hindi

खर्राटे आने के कई कारण हो सकते हैं, जिनके बारे में हम नीचे बताने जा रहे हैं (1):

मांसपेशियों में कमजोरी – कई बार गले और जीभ की मांसपेशियां काफी शिथिल होकर लटकने लगती हैं, जिस कारण रास्ता रुक जाता है। यह ज्यादातर नींद की दवा लेने से, गहरी नींद में होने से या फिर अधिक एल्कोहोल का सेवन करने से होता है।गले के टिश्यू में भारीपन – कभी-कभी मोटापे के कारण गले के टिश्यू का आकार बढ़ जाता है। इस वजह से सोते समय खर्राटे आने लगती हैं।नाक के वायुमार्ग में अवरोध – कई बार नाक में टेढ़ापन आने के कारण या नाक के अंदर मौजूद छोटे कणों के कारण वायुमार्ग में अवरोध आने लगता है, जिससे नींद में खर्राटे आने लगती हैं।पैलेट या यूव्यूला के आकार में बदलाव – गले में लटकते हुए उत्तक को युव्युला कहा जाता है। जब इसका आकार ज्यादा बढ़ जाता है, तो नाक से गले में खुलने वाला मार्ग बंद हो सकता है। इस वजह से भी खर्राटे आने लगती हैं।

खर्राटे का घरेलू उपाय – Dwelling Treatments for Loud night breathing in Hindi

कुछ लोग खर्राटे का आयुर्वेदिक इलाज करना पसंद करते हैं, तो कुछ लोग खर्राटे का इलाज घरेलू उपाय अपनाकर करना चाहते हैं। नीचे हम खर्राटे का घरेलू इलाज बताने जा रहे हैं :

1. ओलिव ऑयल

खर्राटों से राहत पाने के लिए आप जैतून के तेल का इस्तेमाल कर सकती हैं। इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी गुण होते हैं, जो गले के टिश्यू में आई सूजन को कम करने में मदद करते हैं। इसके रोजाना इस्तेमाल से खर्राटे की समस्या कम होने लगती है (2)।

कैसे इस्तेमाल करें?

एक चम्मच जैतून का तेल और एक चम्मच शहद मिलाएं।इसे रोजाना रात को सोने से पहले खाएं।

आप चाहें तो, रोजाना सोने से पहले एक चम्मच ओलिव ऑयल पीकर सोएं। इससे आपको कुछ ही दिनों में आराम महसूस होगा।

2. सरसों का तेल

सरसों के तेल से भी खर्राटों का इलाज किया जा सकता है। यह खर्राटे का घरेलू इलाज करने में काफी अग्रणी है। कभी-कभी सर्दी-जुकाम होने के कारण नाक बंद हो जाती है और मुंह से सांस लेना पड़ता है। सर्दी-जुकाम के कारण मुंह से सांस लेने पर खर्राटे आती हैं। वहीं, सरसों के तेल में ऐसे गुण होते हैं, जो सर्दी की समस्या से राहत दिलाने में मदद करते हैं।

कैसे इस्तेमाल करें?

आप सरसों के तेल को हल्का गुनगुना करें।फिर इस तेल से अपने पूरे शरीर की मालिश करें।रोजाना ऐसा करने से खर्राटे की समस्या धीरे-धीरे कम होने लगती है।

three. हल्दी

खर्राटे का घरेलू उपाय अपनाने के लिए हल्दी का इस्तेमाल किया जा सकता है। हल्दी में एंटीसेप्टिक, एंटीबायोटिक और एंटीइंफ्लामेटरी गुण पाए जाते हैं (three)। इसके सेवन से नाक का रास्ता साफ हो जाता है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है और खर्राटें की समस्या दूर होती है।

कैसे इस्तेमाल करें?

खर्राटों से राहत पाने के लिए आप रोजाना रात को सोने से पहले गर्म दूध में हल्दी डालकर पिएं। धीरे-धीरे आपको इस समस्या से राहत मिलने लगेगी (four)।

four. लहसुन

खर्राटों से राहत पाने के लिए लहसुन का इस्तेमाल भी किया जा सकता है। खासतौर पर तब, जब खर्राटे साइनस की समस्या के कारण आती हों। लहसुन आपके नाक के मार्ग में बलगम को को कम करता है और श्वसन प्रणाली के भीतर किसी भी तरह की सूजन को कम करता है, जिससे खर्राटों से राहत मिलती है।

कैसे इस्तेमाल करें?

बेहतर परिणाम के लिए आप रोजाना सोने से पहले या शाम को एक लहसुन की कली चबा लें।

5. इलायची

खर्राटों से राहत दिलाने के लिए इलायची एक कारगर घरेलू उपाय माना जाता है। इलायची में एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लामेटरी गुण के साथ-साथ विटामिन-सी, आयरन, कैल्शियम और मैग्नीशियम होता है (5)। यह आपको खर्राटों से राहत दिलाने में मदद करती है और आपको अच्छी नींद दिलाती है।

कैसे इस्तेमाल करें?

आप रोजाना रात को एक गिलास पानी में इलायची उबालें और हल्का गर्म रहने पर इसे पिएं। रोजाना ऐसा करने से आपको खर्राटों की समस्या से राहत मिलेगी।

6. पेपरमिंट ऑयल

पेपरमिंट ऑयल में साइनस के कारण होने आने वाली खर्राटों से राहत दिलाने के गुण होते हैं। यह साइनस को साफ करने में मदद करता है, जिससे सांस लेने में आसानी होती है (6)।

कैसे इस्तेमाल करें?

आप रोजाना सोने से पहले पेपरमिंट के तेल की कुछ बूंदें पानी में डालें और इस पानी से गरारे करें। कुछ ही दिनों में आपको राहत महसूस होगी।

7. घी

आयुर्वेद में भी घी के अनेक फायदे बताए गए हैं। यह कई बीमारियों को ठीक करने का काम करता है, जिसमें खर्राटें भी शामिल हैं। यह आपकी नाक को साफ करता है, जिससे खर्राटों से राहत मिलती है।

कैसे इस्तेमाल करें?

आप रोजाना रात को सोने से पहले घी को हल्का-सा गर्म करके एक-दो बूंद नाक में डालें। रोजाना ऐसा करने से आपकी खर्राटों की समस्या धीरे-धीरे कम होने लगेगी।

eight. बिच्छु बूटी (नेटल लीफ टी)

खर्राटों से राहत पाने के लिए आप बिच्छु बूटी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें एंटीथिस्टेमाइंस गुण होते हैं, जो खर्राटों से राहत दिलाने में मदद करते हैं। आपको बता दें कि कुछ लोगों को एलर्जी और इन्फेक्शन के कारण सूजन आ जाती है, जिस वजह से उन्हें खर्राटे की समस्या होने लगती है। ऐसे में नेटल लीफ टी एलर्जी से राहत दिलाने का काम करती है (7)।

कैसे इस्तेमाल करें?

इसके लिए आप एक चम्मच बिच्छू बूटी गर्म पानी में मिलाएं। फिर पांच मिनट बाद पानी को छानकर रात को सोने से पहले इसे पिएं। आप इस प्रक्रिया को रोजाना दोहराएं।

9. शहद

खर्राटे का उपचार करने के लिए शहद काफी फायदेमंद माना जाता है। इसमें एंटी-इन्फ्लामेटरी गुण होते हैं (eight), जो नाक से सूजन को कम करने में मदद करते हैं। इस वजह से आपको सांस लेने में आसानी होती है।

कैसे इस्तेमाल करें?

आप रोजाना सोने से आधा घंटा पहले गर्म पानी में दो चम्मच शहद डालकर पिएं। कुछ ही दिनों में आपको राहत मिलने लगेगी।

10. भांप

खर्राटे का घरेलू उपाय भांप से भी किया जा सकता है। कभी-कभी नाक में कॉन्जेशन के कारण भी खर्राटे आने लगती है। ऐसे में आप गर्म पानी से भांप ले सकते हैं।

कैसे इस्तेमाल करें?

एक बाल्टी में गर्म पानी लें। पानी इतना गर्म होना चाहिए कि उसमें से भांप निकल रही हो। फिर, सिर पर एक तौलिया ओढ़ें और मुंह को कवर करते हुए धीरे-धीरे भांप लें।

खर्राटे बंद करने के लिए कुछ और टिप्स – Extra Suggestions for Loud night breathing in Hindi

ऊपर आपने खर्राटों से राहत पाने के लिए घरेलू उपाय के बारे में जाना। नीचे, हम कुछ अन्य टिप्स दे रहे हैं, जिनकी मदद से आप खर्राटों से राहत पा सकेंगे :

ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं : जब आपके शरीर में पानी की कमी होने लगती है, तो नाक में भी रूखापन आने लगता है, जिस वजह से खर्राटे आती हैं। इसलिए, ध्यान दें कि आपके अंदर पानी की कमी न हो। इसलिए, आप खूब पानी पिएं।

सोने की अवस्था पर ध्यान दें : आपने देखा होगा कि जो लोग पीठ के बल लेटते हैं, उन्हें खर्राटे ज्यादा आती हैं। ऐसे में करवट लेकर सोने से खर्राटों की समस्या कम होती है।

शांत रहें : जिन लोगों को रात में सोते वक्त खर्राटे लेने की आदत होती है, तो उन्हें रात को सोते समय अपने मन को शांत रखना चाहिए। सोने से पहले आप बाहरी विचारों को दिमाग से निकालने की कोशिश करें।

वजन न बढ़ने दें : जब आपका बढ़ने लगता है तो, मोटापे के कारण गले में सिकुड़न होने लगती है, जिस कारण खर्राटे आती हैं। इसलिए, अगर आपका मोटापा बढ़ रहा है, तो इसे नियंत्रित करने की कोशिश करें।

धूम्रपान न करें : जो लोग धूम्रपान करते हैं, उनके गले की झिल्ली में परेशानी होने लगती है। इस कारण खर्राटे आती हैं। इसलिए, खर्राटों से बचने के लिए आप धूम्रपान न करें।

समय पर सोएं : खर्राटों से बचने के लिए जरूरी है कि आप नियमित रूप से सही समय सोएं, ताकि आपके शरीर को पूरा आराम मिले।

व्यायाम करें : व्यायाम करने से भी आपको खर्राटों से आराम मिलता है। इसके लिए आप नियमित रूप से गले की एक्सरसाइज करें। साथ ही, अनुलोम-विलोम, कपालभाति भी आपको फायदा पहुंचा सकता है।

नेजल स्ट्रिप : आप नेजल स्ट्रिप का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। यह नाक के मार्ग को संकीर्ण करती है, जिससे खर्रोटों की आवाज बाहर नहीं आती।

खानपान : खर्राटों से बचने के लिए आपको अपने खानपान पर भी ध्यान देना जरूरी है। आप स्वस्थ भोजन करें और रात का खाना हल्का खाएं।

ठंडी चीजों से परहेज : अगर आपको खर्राटों की समस्या है, तो ठंडी चीजों के सेवन से बचें। ठंडी चीजों के सेवन से गले में सिकुड़न हो सकती है, जो खर्राटों का कारण बनता हैं।

खर्राटे का इलाज बताने के लिए हमने आपको इस लेख में कई तरह के घरेलू उपाय बताने की कोशिश की है, जो आपके काम आ सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि ये घरेलू उपाय आपके काम आएंगे और आप खर्राटे का उपचार घर बैठे ही कर पाएंगी। तो बताएं हमें कि आपने खर्राटों से राहत पाने के लिए कौन-सा उपाय अपनाया।

share-on-pinterestThe next two tabs change content material under. खर्राटे का इलाज और घरेलू उपाय – Methods to Cease Loud night breathing in Hindi – April 17, 2019 पार्टी में जाने के लिए मेकअप कैसे करें – Celebration Make-up Suggestions in Hindi – April 9, 2019 पानी पीने के फायदे – त्वचा, बालों और सेहत के लिए – Pores and skin, Hair And Well being Advantages of Water in Hindi – April eight, 2019 फूड पॉइजनिंग के कारण, लक्षण और घरेलू इलाज – Meals Poisoning Signs and Dwelling Treatments in Hindi – April eight, 2019 अखरोट के 22 फायदे, उपयोग और नुकसान – Walnut (Akhrot) Advantages, Makes use of and Aspect Results in Hindi – April three, 2019

संबंधित आलेख

पिंपल/मुंहासे हटाने के 20 घरेलू उपाय – Pimple Hatane Ke 20 Gharelu Upay – Methods to Take away Pimples at Dwelling in Hindi

अगर आप जानना चाहते हैं के पिम्पल्स (Pimples) को कैसे रोके तो आपके लिए इस लेख में हैं पिम्पल यानि मुँहासे हटाने के 20 घरेलू उपाय और इलाज के तरीके जो आपको पिंपल्स को दूर करने में मदद कर सकता है…

टी ट्री ऑयल के 25 फायदे, उपयोग और नुकसान – Tea Tree Oil Advantages, Makes use of and Aspect Results in Hindi

टी ट्री ऑयल के अनोखे फायदे जानने के लिए पढ़े ये लेख। (Tea tree oil advantages in Hindi) न सिर्फ त्वचा और बालो के लिए, टी ट्री ऑयल लिए भी बोहोत उपकारी साबित हो सकता है। विस्तारित जानने के लिए ज़रूर पढ़े…

पानी पीने के फायदे – त्वचा, बालों और सेहत के लिए – Pores and skin, Hair And Well being Advantages of Water in Hindi

‘जल ही जीवन है’, यह कहावत ऐसे ही नहीं बन गई है। पानी ऐसी चीज है, जिसके बिना जीवन की कल्पना तक नहीं कर सकते। यह न सिर्फ हमारी प्यास बुझाता है, बल्कि पाचन को दुरुस्त करता है, मस्तिष्क को फायदा पहुंचाता है और शरीर को हाइड्रेट रखता है।

बालों के लिए अरंडी तेल के फायदे और घरेलू उपाय – Castor Oil For Hair Care in Hindi

हम सब जानते है के बालो के लिए अरंडी तेल बोहोत फायदेमंद है। (Castor Oil Advantages for Hair in Hindi) लेकिन अरंडी तेल को कैसे इस्तेमाल करने से आपको मिल सकता है लम्बे घने और चमकदार बाल ये जानने के लिए ज़रूर पढ़े ये लेख…

वज्रासन करने का तरीका और फायदे – Advantages of Vajrasana in Hindi

वज्रासन घुटनों को मोड़ने के बाद पैरों पर बैठकर किया जाने वाला आसन है। यह संस्कृत के शब्द ‘वज्र’ से बना है, जिसका अर्थ है आकाश में गरजने वाली बिजली। इसे डायमंड पोज भी कहते हैं। इस योगासन में बैठकर प्राणायाम, कपालभाति व अनुलोम-विलोम किया जा सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here